RSS

Tag Archives: Bulo C Rani

Diwali songs

Happy diwali

Happy diwali

अपने यहाँ फिल्मों में हर तरह के  तीज त्यौहार पर एक ना एक गाना खोजने पर मिल ही जाता है . या यूं कहें कि फिल्म के निर्माता मार्किट की नब्ज़ को पकड़कर इस तरह के गीतों को कभी कभी ज़बरदस्ती ठूसने के हुनर से अच्छी तरह वाकिफ हैं . हाल के दौर की बात करें तो यशराज की फिल्मों से लेकर करण जोहर ने इसे ख़ूब बुना और बेजा भी . लेकिन दिवाली को लेकर एक गूगल सर्च करने पर कुछ अरसा पहले ‘साईं बाबा’ फिल्म का दीपावली मनाई सुहानी के अलावा इक्का दुक्का गीत ही नज़र आते थे .और सुनने पर इस गीत में दिवाली से ज़्यादा एक धार्मिक तरह के गीत होने की छाप नज़र आती .क्योंकि  अपना संबंध संगीत से और आवाज़ की दुनिया से है  इसलिए दिवाली से जुड़े गीत कई बार परेशां करते ,या कहूँ कि ख़ूब मगज मारी करनी पड़ती .
तो इस पोस्ट में बात ऐसे ही कुछ एक गीतों को जिसे दीपावली के दौरान सुना – सुनाया जा सकता है
Read the rest of this entry »

Advertisements
 
Leave a comment

Posted by on October 25, 2014 in Uncategorized

 

Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

Madhur milan

LATA MANGESHKAR IN A SINDHI "AJRAK"..

LATA MANGESHKAR IN A SINDHI “AJRAK”..

निगार सुल्ताना के नाम से काफ़ी लोग नावाकिफ ना हो पर शायद इस बात से कम ही लोग वाकिफ हो कि वो  एक आला दर्जे  की शायरा भी रहीं, काफी मुशायरों में उनकी शिरकत भी हुआ करती थी, आज यहाँ उनका लिखा हुआ एक लाजवाब गीत…..

तुम कहा हो…..
खो गए है आरजू के कारवां,
हो गयी मंजिल हमारी बेनिशान – मधुर-मिलन-१९५५

बचा हुआ काम क्या बखूबी निभाया है बुलो सी रानी साहिब और लता जी ने. कहने की बात यह भी है, यहाँ इस फिल्म का निर्माण भी खुद निगार सुल्ताना ने ही किया था, अदाकारा भी खुद ही थी.

Film Madhur Milan 1955 Tum kahan ho /Lata Mangeshkar
 
Leave a comment

Posted by on March 30, 2013 in Articles, info and facts

 

Tags: , , , ,

Ise na aur luuTiye, ye dil bahut ghariib hai

By Srinivas Ganti
“You can come to my place and stay. I will charge you one rare Lata song per night” Anant Rege said when I was planning to visit canada to get US my visa stamped.

Although Toronto was closer, Anant’s offer was irresistable 🙂 So I landed at Anant’s place in Ottawa and after a round of introductions and refreshments, Anant took me upstairs into a room filled with neat wooden closets. He opened one and stocked in it were dozens of tapes. He removed them one by one and his expressive eyes lit up when he saw the label “Gul Sanobar” on one of them.

He then picked the following song for my listening pleasure.

“ise na aur luuTiye, ye dil bahut gariib hai
nasiib se main khya kahuun, nasiib to nasiib hai”

The song starts with a gentle aalaap. A fast paced prelude follows with the Piano being the prominent instrument. As the prelude ends, the rythm slows down slight pauses between notes creating a “suspense” filled ambience. Lata then starts with almost a hush “ise na aur luuTiye” and by the time it comes to “kya kahuun” her voice is elevated to a high pitch only to come down with “nasiib to nasiib hai”. These pitch and pace undulations made the song an instant favorite. Kaif Irfani’s lyrics deserve a special mention here for fitting snugly with the ebb and flow
of Bulo C. Rani’s tune.

The movie has another outstanding Lata song. I will come to that some other day.
youtubelink  here.
Gul Sanobar,
Kaif Irfani,
Bulo C. Rani
Lata Mangeshkar
**originally posted @cinemasangeet

 
Leave a comment

Posted by on March 21, 2013 in Articles, pictures

 

Tags: , , , , , , , , , , ,