RSS

jhulo jhulo re jhulna jhulaun -Raag gaur sarang

15 Oct

गुजरात के सुप्रसिद्ध संगीतकार अविनाश व्यास ने यूँ तो हिंदी फिल्मों में बहुत ज़्यादा काम नहीं किया, पर उनका संगीत हमेशा  कर्णप्रिय ही रहता है. हालाँकि गायिकाओं में उन्होंने सर्वाधिक गीत आशा भोंसले और गीता दत्त से गवाये, लता मंगेशकर के साथ भी उनका काम सराहनीय रहा. मात्र १६ गीत, पर  बेहद  सुरीले और अविस्मरणीय, खासकर  ‘कैलाशपति’, ‘एकादशी’ और ‘राम लक्ष्मण’ के गीत जो शास्त्रीयता का भाव  लिए हुए  है. एक ऐसा ही गीत सुनिए लता की आवाज़ में जिसमें झूला झूलने की बात हो रही है. फिल्म है ‘एकादशी’ और गीतकार हैं पं. मधुर .गीत गौर सारंग पर आधारित 

झूलों झूलों रे झूलना झुलाऊं -लता 

A beautiful mujra in Raag Gaur Sarang, penned by the Akhri Mughal (Bahadur shah zafar), composed by Vanraj Bhatia and sung by Preeti Sagar (she seems to have a pretty high market share in this category!).

shamsheer bahe na maang ghazab

अब इसी राग को सुनते हैं पंडित डी वी पलुस्कर की आवाज़  में

पियु पल न लागी मोरी अखियाँ 

# Aditya pant# sks

Advertisements
 
Leave a comment

Posted by on October 15, 2012 in Articles, info and facts

 

Tags: , , , , , , , ,

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: